कोई आकर पूछे


रुके और पहचान ले
अरे तुम
जैसे बस पलक झपकी
कि रुक गया समय भी,
कोई अधूरा दिख गया.




1.8.05 © मोहन राणा

Popular Posts