आवाज


कविताएँ मिली -
वे लहरों की तरह थी - सीत्कारते समुंदर को फिर लौट गईं,
बालू के कुछ कण चमकते मेरी हथेली पर,
और अचानक मैं रुका सीढियों पर कुछ सोचकर
बहुत रात, ठंडाए अंधरे में बोलता कभी उल्लू फिर कुछ सुनता


22.8.05 © मोहन राणा

Comments

Popular Posts