पहचान पत्र

धीरे धीरे चलती है इंतजार की घड़ी
और समय भागता है समय की परछाईयों में
रोशनी के छद्म रुपों में,
मैंने चुना है यह मुखौटा
केवल पहचान पत्र के लिए


© 8.9.05 मोहन राणा

Popular Posts