Posts

Showing posts from October, 2009

याद करते तुम्हें

काबुलीवाला कहता है

क्या सूरज हमारी स्मृतियों का लाइब्रेरियन है?