Posts

Showing posts from February, 2010

शोक सभा में

कालापानी नीली लहरें

खग्रास

बावली धुन

कविता ही फिलहाल

चाँदनी रात में खामोशी