Tuesday, July 26, 2011

गर

अकेला नहीं कोई
टापू भी नहीं
धरती भी नहीं ठंडे अंधकार में
थोड़ी देर गर भूल जाऊँ
अपने को ही याद करना

रेत का पुल/ RET KA PUL

Mohan Rana's poetry is always tuned to sounds from near and afar. At the same time it captures in its images the essence of close and ...